गुरुवार, 7 मई 2009

राजनीतिज्ञों के अनुकरणीय गुणों पर एक नज़र

         आप चाहें इस पर झुंझलायें, चिड़चिड़ायें या फिर उससे एकदम उदासीन ही हो जायें, लेकिन उसके बिना आपका-हमारा गुजारा ही नहीं है। जी हां, मैं राजनीति और राजनीति से जुड़े लोगों की ही बात कर रहा हूं।

                 जब मैं पूर्व राष्ट्रपति/उपराष्ट्रपति डॉ॰ शंकर दयाल शर्मा का निजी सचिव था, तब इन दस वर्षों में मुझे अनेक राजनेताओं के सम्पर्क में आने का मौका मिला। इस दौरान मुझे उनके व्यक्तित्व में अनेक ऐसे गुण मिलें जो अद्भुत थे, विलक्षण थे। मुझे लगता था, और आज भी लगता है की काश! उनमें से कुछ गुण हम जैसे आम लोगों में भी जाते। सच तो यह है कि उनके ये विशिष्ट गुण ही उन्हें राजनेता बनाते हैं। 

           मैं यहां उनके ऐसे ही कुछ उन गुणों की ओर आपका ध्यान आकर्षित करना चाहूंगा जो मुझे सचमुच में बहुत अनुकरणीय लगते हैं।

1.  उनमें मेहनत करने की अविश्वसनीय स्तर तक की क्षमता होती है। उनका अपना कुछ नहीं रह जाता,   परिवार ,   भाई-बन्धु, खाना सोना। स्थान का ठिकाना और ही ठिकाना समय का। अप्रेल-मई की गर्मी में उनके चुनावी दौरे छोटी-मोटी बात नहीं है।

2.  उनका आन्तरिक संतुलन गजब का होता है। वे तो स्थितयों से जल्दी परेशान होते हैं, और ही भावावेश में आकर कुछ भी कर बैठते हैं। बर्दास्त करने की उनकी शक्ति के सामने तो हम और आप कुछ भी नहीं हैं।

3.  वे उदार और खुले मन के होते हैं। सच्चे नेता का कोई दिली दुश्मन नहीं होता। ये मतभेद को कभी

 मनभेद बनने नहीं देते। बड़ी से बड़ी नोंकझोंक को कुछ ही मिनटों बाद मजाक में उड़ा देने की उदारता इनकी खूबी होती है।

4.  इनमें इगो की मात्रा काफी कम होती है। इसलिए आम लोगों से बहुत सहजता से मिलते-जुलते रहने में इन्हें दिक्कत नहीं आती।

5.  इनसे सीखा जा सकता है कि रिश्तों को कैसे निभाया जाता है।

6.  झटकों को बर्दाश्त करने में इनके जैसा कोई नहीं होता। कभी शिखर पर तो कभी जमीन पर। इस तरह की अनजानी यात्रा इन्हें अंदर से बहुत मजबूत बना देती है। साथ ही हर समय के स्ट्रगल को झेल पाना, अनिश्चय और असुरक्षित माहौल में अपने संतुलन को साधे रख पाना, एक विलक्षण गुण है।

        क्या आपको नहीं लगता कि राजनेताओं के ये गुण हमारे बहुत काम के हैं!

डॉ. विजय अग्रवाल     

 

 

5 टिप्‍पणियां:

  1. आप की बात कुछ लोगों पर तो सचमुच सही लगती है, लेकिन इस मामले में अपवादों की भी कोई कमी नहीं है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. हम तो सहमत होंगे ही!! :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. वास्तव में आपकी आँखों में सामने वालो के सिर्फ गुण देखने की अच्छी आदत है इसलिए आप हमेशा सफल और खुश रहेंगे -raju bagra

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरे लिए बहुत काम की जानकारी है. आप का बहुत -बहुत धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं